Friday, 22 March 2019



नही पता ये बेकरारी क्यूँ है...
तेरे नाम से खुमारी क्यूँ है...
न तेरे नाम के सज़दे हैं सिला...
दानिश फ़क़त ये फ़रारी क्यूँ है ...



तू जुदा हो कर भी जुदा नहीं मुझसे...
रवां हो कर भी रवां नहीं मुझ में...
तू मिला था गोया मंजिल सा मुझे...
तेरे बिन अब ये आबकारी क्यूँ है...



न कहे जो मैंने किस्से कभी कहीं...
कहना दिन रात चाहता हूँ उसे...
हर घड़ी पाबन्द है तेरी मुहब्बत में...
फिर ये आँखों का दरिया खारी क्यों है...



समंदर सा वजूद लिए फिरता हूँ....
एक अदनी नन्हीं सी बूँद में ...
रूह के साए सी तुम वाज़िन्द हो... फ़िर
तूफानों में कश्ती किनारे उतारी क्यूँ है...

Friday, 29 November 2013

जन्मदिन

तमन्ना-ए-दिल रूआब हो इस कदर,
चेहरा-ए-तबस्सुम मे आब हो इस कदर।
आफताब भी खुद आकर कहे जमीं पर
बरसे तुम पर खुशी जीवन भर।

ना लफ्ज हो माँगने का दुआओं मे तेरी,
आबाद हो जाए वो जिसको दे तू दुआ हँस कर
रहमत खुदा की हो तुझ पर इस कदर।
दुआ कुबूल हो मेरी ए-दानिश
याद रहे ये सालगिरह जीवन भर

Wednesday, 30 October 2013

नजरें

तेरी तीखी नजरों ये ख़ंजर, नखरे की ये नजर, उफ़ ये मंजर ।
जुल्फों ने बढ़ाई ये बेकरारी कैसी, रुख पर तेरे ये पहरे के मंजर ॥

तेरी इस नजर की खातिर, कितनी बार न जाने
उसने बदले खुद के मंजर ।

शरारती नजरों को छिपाती निगाहें तेरी, कहे ना लफ्जों से
दानिश नजर बयाँ करती है खुद अपने मंजर॥...

Friday, 25 October 2013

अखरना !

उसका होना ना होना इतना अखरता नहीं है मुझे,
जितनी तेरी ये बात अखर जाती है।

किसी ना किसी बहाने ये पूछ लेना कि
 "क्या अब भी मुझे उसकी याद आती है ?"

Thursday, 3 October 2013

Khata ......

Unhen chahne ki khata meri hai,
Bas unhen ishq karne ki khata meri hai.

Vo sab keh jate hain un isharon se,
Alfaz labo pe lane ki khata meri hai.

Unhe ishq ne khudai baksh di,
Bas shaitaniyan karne ki khata meri hai.

Vo sharmate bhi is ada hain ki khabar dusre ko na ho,
Bas ishq ko ruswah karne ki khata meri hai.

Shauk nazaro se pine ka unhe bhi hai vaiz,
Bas shauk unki nazaro me doobe rehne ki khata meri hai.

Vo akhtiyar karte koi nakab nahi,
Ishq me bhi hazar chehre rakhne ki khata meri hai.

Unki nazar-e-inayaton pe jinda hoon main yahan,
bas unki dhadkan ke sahare saans lene ki khata meri hai.


Usi ki yaado me doobe rehne me mashgool hoon main,
Na yaad karu jo usko Danish, din na gujar paane ki khata meri hai. 

Friday, 27 September 2013

Aks.....

Kaise karoon bayan us khwab ko,
Chahaton ke riste, noor-e-aftab ko.
Juban-e-aaine par baaki honge, nishan hamere,
Kyun kar ruswah kar doon, Aks tumhare Ruaab ko.

     --e - DANISH

Wednesday, 25 September 2013

Khwahish...

Wo madhosh is kadar apne fasano me hai...
Us raat ko khabar beet jaane ki naa hui........

Reh- reh kar wo yaad karti rahi mujhe.....
Aur shab bhar baad bhi wo mujhe dhoondhti rahi...

Samajh-samajh kar bhi use yaad bhi na aayi...
Aur Fasana shab bhar chalta raha.....

Us raat ki tanhaai bhi abhi dil me hai...
Aur wo tanha kahin Mehfil me hai....

Ud gaya pancchi bhi kahin, aur pankh dharatal me hai...
"Danish" rooh rukhsat ho gayi, aur khwahish abhi Dil me hai...